मोदीनगर क्षेत्र के गदाना गांव निवासी अनुज और आकाश वर्मा समेत तीन युवक मंगलवार रात हमले में घायल हो गए थे।

गाजियाबाद के मोदीनगर इलाके में दो दिन पहले तीन युवकों पर हुए जानलेवा हमले में पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा किया है। घायलों ने जिनके खिलाफ FIR कराई थी, वे निर्दोष पाए गए। CCTV फुटेज से पता चला कि हमलावर कोई और थे। पुलिस ने कार नंबर से ट्रेस कर दो अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि पूर्व में हिरासत में लिए गए दो युवकों को रिहा कर दिया है। खुलासा हुआ है कि हमला रंजिशन नहीं, रोडरेज से जुड़ा था।

गदाना से मोदीनगर आते समय हुआ हमला

मोदीनगर थाना क्षेत्र के गदाना गांव निवासी अनुज अपने दोस्त आकाश वर्मा के साथ मंगलवार रात मामा को छोड़ने के लिए राज चौपला मोदीनगर पर आ रहा था। रास्ते में रजवाहे के पास कार सवार युवकों ने तीनों को रोक लिया। आरोपियों ने धारदार हथियार से तीनों पर हमला बोल दिया और कई जगह प्रहार करके उन्हें घायल कर दिया। वारदात करके आरोपी फरार हो गए।

घायल पक्ष की एप्लीकेशन पर पुलिस ने पूर्व में अल्ताफ और समीर को कस्टडी में ले लिया था।
अल्ताफ-समीर पर लगा था हमले का आरोप

अनुज की बहन सोनम ने इस मामले में अज्ञात युवकों के खिलाफ हमले की FIR मोदीनगर थाने में दर्ज कराई। लेकिन FIR में हमलावर अज्ञात बताए गए। इसी मामले में बुधवार देर रात आकाश के पिता राकेश कुमार ने एक और एप्लीकेशन मोदीनगर थाने पर देकर नया मोड़ ला दिया। राकेश ने इस एप्लीकेशन में कहा कि हमलावर स्कॉर्पियो में सवार थे और हमला करते वक्त ‘सिर तन से जुदा’ करने की बात कह रहे थे। इस एप्लीकेशन में हमलावरों के नाम अल्ताफ और समीर बताए गए। हमले की वजह ये बताई गई कि तीन महीने पहले अनुज का अल्ताफ से गिल्ली-डंडा खेलने को झगड़ा हुआ था।

सीसीटीवी कैमरे से सही आरोपी पता चलने के बाद पुलिस ने अब संजू व राकेश को पकड़ा है, जबकि पहले वाले छोड़ दिए हैं।

अब संजू-राकेश पकड़े गए

पुलिस ने कार्रवाई करते हुए नामजद दोनों आरोपियों को पकड़ लिया। पकड़े गए युवकों के परिजनों ने पुलिस कार्रवाई पर आपत्ति जताई। साथ ही निष्पक्ष जांच के लिए कहा। इसके बाद पुलिस ने घटनास्थल के आसपास वाले CCTV कैमरे खंगाले। इसमें काले रंग की स्कॉर्पियो दिखी। उसके नंबर से पुलिस कार मालिक तक पहुंच गई। आखिरकार पुलिस ने स्कॉर्पियो सवार संजू और राकेश को गिरफ्तार कर लिया। दोनों ने हमला करने की बात कुबूल की। इतना ही नहीं, घायलों ने भी दोनों को पहचान लिया।

पुलिस बोली- पुराने विवाद में घायलों ने गलत नाम बताए

अब पुलिस ने पूर्व में कस्टडी में लिए अल्ताफ और समीर को छोड़ते हुए संजू-राकेश को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का कहना है कि पूर्व में हुए विवाद के चलते घायल पक्ष ने हमलावरों के गलत नाम बता दिए थे। पुलिस ने बताया कि रास्ते से निकलने को लेकर विवाद हुआ था, जिसके चलते ये हमला हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here